Rewa News: विधि महाविद्यालय रीवा में मिलेगी पांच वर्षीय पाठ्यक्रम व पीएचडी की सुविधा

जनभागीदारी समिति की बैठक में लिया गया निर्णय
 | 
law collage rewa

रीवा. शासकीय विधि महाविद्यालय रीवा में अगले शिक्षा सत्र से पांच वर्षीय विधि पाठ्यक्रम तथा पीएचडी की उपाधि प्राप्त करने की व्यवस्था प्रारंभ की जाएगी। इस प्रस्ताव की मंजूरी शासकीय विधि महाविद्यालय के जनभागीदारी समित की बैठक में दी गई। बता दें की यह बैठक पहली बार हुई है।  बैठक में पूर्व मंत्री तथा विधायक रीवा राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि विधि महाविद्यालय का इतिहास गौरवशाली है। महाविद्यालय के पास आधुनिक भवन की सुविधा है। यहाँ नवीन पाठ्यक्रम आरंभ होने से विद्यार्थियों को नए अवसर मिलेंगे। विधि स्नातक के लिए लॉ आफीसर, कंपनियों में कानूनी सलाहकार सहित अनेक अच्छे अवसर मिलते हैं। महाविद्यालय की सुविधाओं तथा पाठ्यक्रमों में विस्तार करें।

बैठक में कलेक्टर मनोज पुष्प ने कहा कि विधि महाविद्यालय की कक्षाओं का नियमित रूप से संचालन करें। बार काउसिंल द्वारा निर्धारित शर्तों के अनुरूप समस्त व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें। अतिथि विद्वानों का चयन करते समय यूजीसी के मापदण्डों का कठोरता से पालन करें। आवश्यक उपकरणों एवं अन्य संसाधनों की खरीद के लिए महाविद्यालय स्तर पर समिति बनाकर स्वीकृत बजट के अनुरूप क्रय करने की व्यवस्था करें। कम्प्यूटर की खरीदी के लिए समिति में जिला प्रबंधक ई गवर्नेंस को भी सदस्य बनाएं। बैठक में प्राचार्य योगेश तिवारी ने महाविद्यालय के कार्यों तथा विभिन्न आवश्यकताओं की पूर्ति के संबंध में प्रस्ताव रखे। बैठक में सीसीटीवी लगाने, 15 अतिथि विद्वानों की नियुक्ति, 10 कम्प्यूटर क्रय करने तथा अन्य कार्यों से संबंधित प्रस्तावों को मंजूरी दी गई। बैठक में समिति के सभी सदस्य उपस्थित रहे।