रीवा में किशोरी से गैंगरेप करने वाले आरोपियों के घरों में चली जेसीबी

नईगढ़ी में गैंगरेप के आरोपियों के खिलाफ प्रशासन व पुलिस ने की बड़ी कार्रवाई 
 | 
gang rape rewa

रीवा. जिले के नईगढ़ी थाने क्षेत्र के अष्टभुजी माता मंदिर के समीप देवलहा जलप्रपात में किशोरी  के दोस्त को बंधक बनाकर गैंगरेप करने वाले आरोपियों के खिलाफ प्रशासन सख्त हो गया। जिला कलेक्टर मनोज पुष्प व एसपी नवनीत भसीन के निर्देश पर रविवार को एसडीएम एपी द्विवेदी, एसडीओपी नवीन दुबे सहित राजस्व विभाग की टीम पुलिस बल मौके पर पहुंचा। आरोपियों के घरों की नाप कराई गई और अवैध निर्माण चिंहित कर घरों में बुल्डोजर चला दिया गया। करीब दो घंटे तक ये कार्रवाई की गई। इस दौरान पूरा कस्बा पुलिस छावनी बना रहा। आरोपियों की अन्य अवैध सम्पत्ति की भी जानकारी जुटाई जा रही है। बता दें कि अब तक वारदात में शामिल पांच आरोपियों की पहचान पुलिस ने कर ली है। एक की तलाश जारी है।

बता दें कि गैगरेप की रोंगटे खड़े कर देने वाली यह घटना नईगढ़ी थाने के अष्टभुजी माता मंदिर की है। बताया गया है कि यहां पर एक किशोरी अपने दोस्त के साथ दोपहर में आई थी। मंदिर में दर्शन करने के बाद वे दोनों वही पर बैठकर बातचीत कर रहे थे। इसी दौरान आधा दर्जन युवक वहां पहुंच गए। आरोपी उनको धमकाने लगे और किशोरी को घसीटकर कूड़ा के नीचे तरफ ले गए। जहां एक-एक करके आधा दर्जन युवकों ने पीडि़ता के साथ दरिंदगी की। एक घंटे से Óयादा वक्त तक आरोपी उनको बंधक बनाए हुए थे। आरोपियों की चंगुल में फंसी किशोरी व उसका दोस्त रहम की भीख मांग रहे थे लेकिन दरिंदों पर कोई असर नहीं हुआ। आरोपियों ने अपनी हवस की भूख मिटाने के बाद किशोरी से मारपीट कर मोबाइल, पायल तक छीन लिया। और धमकाते हुए मौके से फरार हो गए। बदहवास पीडि़ता व उसका दोस्त किसी तरह बाहर आए और घटना के संबंध में पुलिस को सूचना दी गई। तत्काल एसडीओपी नवीन दुबे सहित नईगढ़ी पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने उनके परिजनों को भी जानकारी दी और उनको लेकर आ गई। शिकार किशोरी की हालत खराब होने पर तत्काल उसको इलाज के लिए अस्पताल भेजा गया। पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ पुलिस ने धारा &76डी, &95, 506 व पाक्सो एक्ट के तहत प्रकरण पंजीबद्ध कर लिया है।

भयभीत किशोरी ने पुलिस की समझाइश के बाद कराई रिपोर्ट
इस खौफनाक वारदात की शिकार हुई पीडि़ता आरोपियों के भया के कारण उनके खिलाफ रिपोर्ट लिखाने तक को तैयार नहीं थी। आरोपियों ने जान से मारने की धमकी दी थी। बाद में पुलिस ने समझाईश दी, एसडीओपी ने उससे बात की और आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई का भरोसा दिलाया। जिसके बाद पीडि़ता शिकायत दर्ज करवाने को राजी हुई।


पांच आरोपियों की हुई पहचान
वारदात में शामिल पांच युवकों की पुलिस ने पहचान कर ली है। आरोपियों ने जिस अंदाज में घटना को अंजाम दिया है उससे आशंका है कि उन्होंने कई अन्य पीडि़ताओं के साथ इसी तरह दरिंदगी की है। बता दें कि अष्टभुजी मंदिर व उसके पास स्थित कूड़ा में काफी संख्या में लड़के-लड़कियां घूमने के लिए आते हैं। आरोपियों ने कई अन्य लड़कियों को भी शिकार बनाया होगा लेकिन बदनामी के डर से लड़कियों ने रिपोर्ट नहीं की। आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस की सख्ती में अन्य खुलासे हो सकते हैं।