Rewa MIC ने लिया बड़ा फैसला, अब बिना तामझाम के होगा भूमिपूजन व लोकार्पण, महापौर ही होंगे मुख्य अतिथि

भूमिपूजन को लेकर गाइडलाइन जारी, बिना कार्यादेश भूमिपूजन नहीं होगा
 | 
nagar nigam rewa

रीवा। भूमिपूजन को लेकर लगातार बढ़े विवाद के बीच मेयर इन काउंसिल (MIC) ने एक बड़ा फैसला लिया है। नगर निगम के कार्यों में भूमिपूजन को लेकर उपजे विवाद को खत्म करने के लिए अब मेयर इन काउंसिल ने स्पष्ट गाइडलाइन निर्धारित कर दी है। जिसके तहत नगर निगम (Nagar Nigam) से कोई भी कार्य बिना कार्यादेश जारी हुए भूमिपूजन नहीं होगा। इसके अलावा अब शहर के भीतर हर भूमिपूजन और लोकार्पण के आयोजन में मुख्य अतिथि महापौर होंगे। इन आयोजनों की पांच दिन पहले संबंधित को सूचना निगम आयुक्त की ओर से दी जाएगी। सभी आयोजनों  में महापौर के साथ आयुक्त, संबंधित विभाग के प्रभारी सदस्य, अधीक्षण यंत्री भी मौजूद रहेंगे। 

सादे समारोह में होंगे आयोजन
बता दें कि बीते कुछ समय से भूमिपूजन को लेकर हो रही राजनीति के चलते एमआईसी ने यह निर्णय लिया है। कहा गया है कि लोकार्पण और भूमिपूजन के कार्यक्रमों में टेंट, माइक की व्यवस्था नहीं होगी केवल सादे समारोह में कार्यक्रम होगा। एमआईसी की बैठक में महापौर अजय मिश्रा, आयुक्त मृणाल मीना, अधीक्षण यंत्री शैलेन्द्र शुक्ला, मेयर-इन- काउंसिल सदस्य नजमा बेगम,  नीतू अशोक पटेल, धनेन्द्र सिंह बघेल, ऋषिकेश त्रिपाठी,  मनीष नामदेव, गुलाम अहमद, गायत्री खण्डेलवाल सहित अन्य सदस्य एवं अधिकारी मौजूद रहे।

राशि जमा नहीं करने पर आवंटन निरस्त 
मेयर इन काउंसिल (MIC) की बैठक में एक और प्रमुख प्रस्ताव जो पास किया है उसमें योजना क्रमांक सात एवं प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत जिन लोगों को आवंटन हुआ है और वह राशि जमा नहीं कर रहे हैं, तो उनका आवंटन निरस्त किया जाएगा। ट्रांसपोर्ट नगर की चार दुकानों की राशि जमा नहीं होने पर उनका भी आवंटन निरस्त करने का निर्देश जारी किया गया है।
  
सांसद-विधायक के पत्र और पैचवर्क की भी गाइडलाइन
एमआईसी ने एक अन्य प्रस्ताव में निर्णय लेते हुए कहा गया कि,  विभन्न वार्डोंे में विकास कार्य के लिए सांसद, विधायक, पार्षदगण एवं वार्डों की जनता द्वारा मांग पत्र एवं सुझाव पत्र आते हंै, जिनका सार्थक समाधान कारक कार्यवाही की जाए। साथ ही यह भी ध्यान रखें कि मध्यप्रदेश नगरपालिक निगम अधिनियम 1956 में बनाये गये नियमों का पालन हो। पैचवर्क के कार्य, डब्ल्यूबीएम., सीमेन्ट कांक्रीट का पैचवर्क,  टूटी नालियां, हयूम पाईप, कल्वर्ट, छोटे रिपेयर कार्य इनकी सारी सूचना महापौर एवं आयुक्त को जोन वाइज सूची तैयार कर प्रेषित की जाय, इसके उपरांत ही कार्य किया जाय। कोई भी सड़क सुधार पैच 2 मीटर से 5 मीटर के पैचवर्क ही मान्य होंगे। अन्य बड़े कार्य निविदा के जरिए की किए जाएंगे।