श्रद्धा की क्यों थम गई सांसे: पर दर परत खुल रही है हत्या की गुत्थी

 | 
श्रद्धा की क्यों थम गई सांसे: पर दर परत खुल रही है हत्या की गुत्थी

मुंबई में प्यार और दिल्ली में मर्डर... जिसने भी यह दास्तां सुनी वह दंग रह गया, जिस तरह से श्रद्धा  का खून किया गया उससे पूरे हिंदुस्तान को हिला कर रख दिया। जिस तरह आफताब ने श्रद्धा के टुकड़े कर उसे ठिकाने लगाया। अब जो खबर आ रही है वह बहुत ही चौंकाने वाली है 18 मई को आफमाब ने बेरहमी से श्रद्धा की हत्या कर दी थी। लेकिन क्या आप जानते हैं कि श्रद्धा अपनी जान बचा सकती थी.. आपने ठीक पढा.. श्रद्धा आफताब के चंगुल से निकल सकती थी, श्रद्धा को एक-दो नहीं बल्कि तीन-तीन बार मौके मिले। कहा गया है कि अगर वह समझदारी से काम लेती तो बच सकती थी। पहली बार जब आफताब ने श्रद्धा की पिटाई कर दी और उसको दोस्तों को इसकी जानकारी मिली तो दोस्तो ने श्रद्धा को समझाया कि पुलिस आफताब के खिलाफ पुलिस कंप्लेंट कर दो, लेकिन उसने पही किया और वापस चली गई। मुंबई में भी उसके माता-पिता ने काफी समझाया लेकिन श्रद्धा ने जवाब दिया क्यों अपना अच्छा बुरा समझ सकती है, क्योंकि वह बलिग है। 


श्रद्धा पहली बार आफताब की रिलेशन में 2018 में आई थी, दोनों डेटिंग ऐप के जरिए मिले, दोनों में प्यार हुआ और रिलेशनशिप में आए, और लिवइन में रहने का फैसला किया,  लेकिन प्यार ज्यादा दिन नहीं चला दोनों के बीच झगड़े होने लगे और श्रद्धा की दोस्त रजत शुक्ला की माने तो आफताब श्रद्धा को मारता पीटता था  “ श्रद्धा ने बताना शुरू कर दिया था कि आफताब काफी गुस्सा हो रहा है उसके ऊपर पूरा दिन हाथ उठाता है लेकिन फिर भी श्रद्धा उसके साथ रह रही थी, हम लोगों को लगा कि इतना गंभीर मामला नहीं है‘‘ बाद में एक बार श्रद्धा है बचपन के दोस्त लक्ष्मण को बताई थी उसे बचा लो नही तो मुझे ऐसा लगता है कि आज कि रात आखिरी रात होगी।

यही से श्रद्धा के दोस्तो का शक बढने लगा कि आफताब की कहानी सिर्फ इतनी नही थी वो लगातार श्रद्धा पर जुल्म ढहा रहा था। एक दिन श्रद्धा ने खुद अपने दोस्तो को व्हटसाप मैसेज कर बताया कि आज कि रात उसकी आखिरी रात हो सकती है। श्रद्धा के दोस्त लक्ष्मण ने कहा कि ‘‘ एक बार श्रद्धा ने मुझे एक एैसा मैसेज व्हाटसॉप बोल कि पिलीज मेरे घर पर आ जाओ मुझे बाहर ले जाओ यदि आज रात को मैसेज किया कि यदि इसके साथ घर पर रही तो यहा मार डालेगा’’ श्रद्धा यदि दोस्तो कि बात मान लेती और पुलिस कम्पेन्ड कर देती तो शायद वह बच जाती। उसका यह पहला मौका था बचने का। 


श्रद्धा को दूासर मौका भी मिला था.....श्रद्धा हत्या केश में एक के बाद सन्नसनी खेज खुलासे हो रहे है। 26 साल कि लड़़की को उसके लिविंग पार्टनर ने किस बेरहमी से मार और फिर उसके शरीर के 35 टुकडे कर दिये। ये घटना अपने में दिल दहलाने वाली है। लेकिन इसमें सबसे दुखद पहलू श्रद्धा के पिता का है, उन्हे इस बात का दुख है कि उनकी बेटी ने प्यार में जिद के चलते उनकी बात नही मानी, अगर मान ली होती तो वो आज वह जिन्दा होती। 
श्रद्धा के पिता विकास मदन बताते है ‘‘श्रद्धा और आफताब के रिलेशनशिप के बारे में परिवार को 18 महीने बाद पता चला। श्रद्धा ने अपनी मां से 2019 में कहा था कि वो आफताब के साथ लिव-इन रिलेशनशिम में हैं। इसका मैंने और मेरी पत्नी ने विरोध किया था। तब श्रद्धा नाराज हो गई और उसने कहा कि मैं 25 साल की हो गई हूं। मुझे अपने फैसले लेने का पूरा हक है। मुझे आफताब के साथ लिवइन में रहना हैं। मैं आज से आनकी बेटी नही। ये कहकर वो घर से जाने लगी, तो मेेरी पत्नी ने काफी मिन्नतें की, मगर वह नहीं मानी और आफताब के साथ चली गई। हमें उसके दोस्तों से ही उसकी जानकारी मिल पाती थी। श्रद्धा के इस फैसले से उसकी मां को गहरा सदमा लगा वह अक्सर बीमार रहने लगी और 2021 में उसकी मौत हो गई। मां की मौत के बाद श्रद्धा ने एक दो बार बातचीत की थी तब उसने बताया था कि आफताब के साथ उसके रिश्ते में कड़वाहट आ गई है उस दौरान वह एक बार घर भी आई और बताया कि आफताब तो उसके साथ मारपीट करता है तब मैंने  उसे वापस घर आने को कहा था मगर आफताब के मनाने पर उसके साथ चली गई।