अखबार या पेपर पर खाना हो सकता है जानलेवा, इस राज्य में लगाया गया प्रतिबंध, जानिए किस तरह है खतरनाक

दुकानों पर पम्प्लेट लगाकर विक्रेताओं से खाद्य सामग्री अखबारों में न परोसने का लिया जा रहा शपथ-पत्र 
 | 
food in news paper

देश के कई राज्यों में सुबह की शुरुआत नाश्ते के रूप में पेहा-जलेबी से होती है। यह नाश्ता अमूमन ठेले पर ही होता है। और करीब-करीब सभी ठेले वाले अखबर के तुकड़े में पोहा और जलेबी सहित अन्य नाश्ता परोसते हैं। जिसे हम सब चाव से खाते भी हैं। पर क्या आपको पता है यह कितना घातक हो सकता हैं। यहां तक की यह जानलेवा भी हो सकता हे। जिसके चलते अब मध्यपदेश सरकार ने इस पर प्रतिबंध लगा दिया है। इसकी शुरुआत राजधानी भोपाल से की गई है। 

शुरुआत राजधानी से
मध्य प्रदेश एक ऐसा राज्य है जहां करीब सभी जिलों में लोगों के दिन की शुरुआत पोहा, समोसे, जलेबी जैसे नाश्ते के साथ ही होती है। राज्य के बड़े शहरों में शुमार भोपाल और इंदौर में तो लोगों का पसंदीदा नाश्ता ही पोहा-समोसा और जलेबी है। लेकिन अब सरकार ने इसे लेकर बड़ा फैसला लिया है। इस पसंदीदा नाश्ते को लेकर बड़ा ऐलान किया है। इस निर्णय की शुरुआत भी राजधानी भोपाल से हो चुकी है। 

लोगों के लिए घातक
अभी तक देखा जा रहा है कि हर दुकाना में नाश्ता न्यूज पेपर या अखबार पर लपेट कर दिया जाता है। लेकिन यह अखबार लोगों के लिए कितना घातक हो सकता है, इसका अंदाजा लगाना भी मुश्किल है। इस लिए इस पर अब प्रतिबंध लगा दिया गया है। यानि पेपर में समोसे-पोहा बांध कर देन व परोसना प्रतिबंधित कर दिया गया है। 

अभियान की शुरुआत
भोपाल कलेक्टर ने इस संबंध में आदेश तक जारी कर दिया है। जिसके अनुसार अब किसी भी दुकान पर नास्ता पेपर या अखबार नहीं परोसा जा सकेगा। इसके लिए बाकायदे दुकानों पर पम्प्लेट लगाये जायेंगे साथ ही विक्रेताओं से शपथ-पत्र लिया जा रहा है उनके यहां अखबार का उपयोग खाद्य सामग्रियों के निर्माण/रखरखाव/परोसने में नहीं किया जायेगा। न्यूजपेपर और अन्य कागजों में खाद्य सामग्री से जुड़ा उपयोग पूर्णत बंद करने के निर्देश जारी किए गए हैं। इसे लेकर अभियान की शुरुआत कर दी गई है। 

ऐसे डालता है सेहत पर घातक असर
भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण की एक रिपोर्ट मे यह खुलासा किया गया है कि अखबार में खाना सेहत के लिए बहुत ही घातक है। अखबार की छपाई में उपयोग की जाने वाली स्याही के पेट में जाने से गंभीर बीमारी पैदा हो जाती है। स्याही के केमिकल से पाचन संबंधी समस्याएं उत्पन्न हो जाती हैं। रिपोर्ट के अनुसार अखबार में लिपटा ऑयली खाना और भी हानिकारक हो जाता है। क्योंकि गर्म खाना रखने से ये इसमें स्याही चिपक जाती है, जिससे कैंसर जैसी जानलेवा घातक बीमारियों होना का भी खतरा रहता है।