बागेश्वर धाम के धीरेन्द्र शास्त्री जी ने 30 लाख की चुनौती का किया स्वीकार, दरबार में आकर देखने को कहा

बागेश्वर धाम के धीरेन्द्र शास्त्री के खिलाफ अंधविश्वास फैलाने का आरोप लगा हैं।
 | 
dhirendr shastri

बागेश्वर धाम के धीरेन्द्र शास्त्री के खिलाफ अंधविश्वास फैलाने का आरोप लगा हैं।  यह आरोप अंधश्रद्धा निर्मूलन समिति ने धीरेन्द्र शास्त्री के खिलाफ किया हैं।  इस मामले में नागपुर में पुलिस केस भी हुआ हैं।  आरोप लगाने वाली समिति का कहना है की पुलिस ने अगर धीरेन्द्र शास्त्री के खिलाफ आगे कोई कारवाई नही की तो यह मामला कोर्ट तक जाएगा। 

वही दूसरी तरफ धीरेन्द्र शास्त्री ने समिति को जवाब देते हुए कहा है की वह उनकी चुनौती को स्वीकार करने के लिए तैयार हैं।  समिति के श्याम मानव को दरबार में आने के लिए कहा है।  धीरेन्द्र शास्त्री जी ने कहा की श्याम मानव उनके रायपुर वाले दरबार में आए। उनकी टिकट का खर्चा मैं स्वयं दुगा।  जब हमारा रायपुर में दरबार लगा तो श्याम मानव क्यों नही आए।  अब हमे समिति के द्वारा बदनाम करने की कोशिश की जा रही हैं। 

आगे उन्होंने कहां की आरोप लगाने वाले छोटी मानसिकता के लोग होते हैं।  हम लोग सात दिन कथा करने वाले थे।  हमे हमारे इष्टदेव पर पूरा भरोषा हैं।  हम लोग अंधश्रद्धा को बढ़ावा नही देते हैं।  क्या हनुमान जी महाराज की पूजा करना और प्रचार करना गलत बात हैं। 

धीरेन्द्र शास्त्री ने 30 लाख की चुनौती का किया स्वीकार

श्याम मानव ने धीरेन्द्र शास्त्री को चुनौती दी है की वह कोई चमत्कार करके दिखाए उसके बदले में समिति के द्वारा 30 लाख उनको दिए जाएगे।  हालांकि शास्त्री जी चुनौती का स्वीकार किए बीना ही दो दिन पहले कथा खत्म करके वहां निकल गए थे।  लेकिन अब धीरेन्द्र शास्त्री ने श्याम मानव की चुनौती का स्वीकार किया हैं।  धीरेन्द्र शास्त्री का कहना है की अगर समिति को चमत्कार देखना है।  तो वह उनके रायपुर वाले दरबार में आए।  लेकिन समिति की अभी भी यही लगातार मांग है की पुलिस धीरेन्द्र शास्त्री को गिरफ्तार करके आगे की कारवाई करे।  अगर पुलिस कोई कारवाई नही करती हैं।  तो समिति कोर्ट की मदद से कारवाई करेगी।