Pitru Paksha :10 सितंबर से प्रारंभ हो रहे हैंं श्राद्ध, जानें श्राद्ध की सभी तिथियां व अन्य जरूरी बातें

श्राद्ध पक्ष में पितरों का उनके निधन की तिथि पर किया जाता है तर्पण व श्राद्ध 
 | 
pitra paksha

पहला श्राद्ध पूर्णिमा से शुरू होता है। जिन पितरों का देहांत पूर्णिमा के दिन हुआ हो, उनका श्राद्ध पूर्णिमा तिथि के दिन किया जाता है।  इन 15 दिनों में सभी अपने पितरों का पितरों के प्रति आस्था के दिन पितृ पक्ष अश्विनी मास में 15 दिन के लिए होते हैं। जिसमें पितरों का श्राद्ध किया जाता है। पूर्णिमा की तिथ से अमावस्या तक का समय पितरों के प्रति आस्था के लिए होता है। श्राद्ध की शुरुआत श्राद्ध पूर्णिमा से होती है। इस दिन को पहला श्राद्ध कहा जाता है। जिनके पूर्वज या पितरों का निधन पूर्णिमा के दिन होता है, उनका श्राद्ध पूर्णिमा तिथि को किया जाता है। श्राद्ध पक्ष के इन 15 दिनों में सभी अपने पितरों का उनकी निश्चित तिथि पर तर्पण व श्राद्ध करते हैं। ऐसा करने से पितृ तृप्त होकर प्रसन्न होते हैं और आशीर्वाद प्रदान कर अपने लोक को प्रस्थान करते हैं। अमावस्या के दिन पितरों को विदा दी जाती है।  11 सितम्बर को सूर्योदय के साथ हो आश्विन कृष्ण पक्ष प्रतिपदा तिथि लग रही है, इसके साथ ही साल 2022 का पितृ पक्ष का आरम्भ हो जाएगा।

आपको बता दें कि पूर्णिमा का श्राद्ध कर्म भाद्र पद शुक्ल पक्ष पूर्णिमा को ही किया जाता है, यह तिथि 10 सितंबर को पड़ रही है। अत: महालय का प्रारंभ 10 सितंबर दिन शनिवार से ही हो जाएगा। शास्त्र के अनुसार जिस तिथि में पितर देव दिवंगत हुए होते है उसी तिथि पर तिथियों के अनुसार पितृपक्ष में श्राद्ध कर्म किया जाता है। संतान की दीर्घायु एवं कुशलता के लिए किया जाने वाला परम पुनीत जियुतिया जियुतपुत्रिका का व्रत पूजन अष्टमी श्राद्ध के दिन किया जाता है। पंचांग के अनुसार जितिया का व्रत रविवार 18 सितंबर को शुरू होगा और इसका पारण सोमवार 19 सितंबर को होगा। 19 सितंबर की सुबह 6.10 पर सूर्योदय के बाद माताएं पारण कर सकती है। इस प्रकार 11 सितम्बर से प्रारंभ होकर 25 सितंबर को पितृ पक्ष समाप्त हो जाएगा।

श्राद्ध की सभी तिथियां

पूर्णिमा का श्राद्ध एवं तर्पण  दिन शनिवार 10 सितंबर
प्रतिपदा का श्राद्ध एवं तर्पण  दिन रविवार  11 सितंबर  
द्वितीया का श्राद्ध एवं तर्पण    दिन सोमवार 12 सितम्बर
तृतीया का श्राद्ध एवं तर्पण   दिन मंगलवार  13 सितंबर 
चतुर्थी का श्राद्ध एवं तर्पण दिन बुधवार  14 सितंबर 
पंचमी का श्राद्ध एवं तर्पण  दिन गुरुवार  15 सितंबर 
षष्ठी का श्राद्ध एवं तर्पण   दिन शुक्रवार  16 सितंबर 
सप्तमी का श्राद्ध एवं तर्पण  दिन शनिवार  17 सितंबर 
अष्टमी का श्राद्ध एवं तर्पण  दिन रविवार  18 सितंबर 
नवमी का श्राद्ध एवं तर्पण  दिन सोमवार   19 सितंबर 
दशमी का श्राद्ध एवं तर्पण दिन मंगलवार  20 सितंबर 
एकादशी का श्राद्ध तर्पण  दिन बुधवार  21 सितंबर 
द्वादशी का श्राद्ध एवं तर्पण  दिन गुरुवार 22 सितंबर
त्रयोदशी का श्राद्ध एवं तर्पण दिन शुक्रवार  23 सितंबर 
चतुर्दशी का श्राद्ध एवं तर्पण  दिन शनिवार  24 सितंबर 
अमावस्या का श्राद्ध एवं तर्पण दिन रविवार 25 सितंबर