गैस गीजर से बरतें सावधानी, बढ़ सकता है जान का खतरा

गैस गीजर से ब्रेन डैमेज का खतरा बढ़ सकता है.
 | 
गैस गीजर से सावधानी बरतें.

देश में बहुत से लोग गैस गीजर का इस्तेमाल करते हैं. ठंड के मौसम में ठंडे पानी से बचने के लिए लोग गर्म पानी के लिए गीजर का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन गीजर से क्या-क्या खतरे हो सकते हैं यह लोगों को मालूम नहीं है. आज हम बात करेंगे गैस गीजर की. गीजर को कभी भी बंद कमरे में इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि इससे आपकी जान पर खतरा आ सकता है.

कुछ समय पहले स्टेशनरी ब्रांड के संस्थापक दिव्यांशु आसोपा ने पर्सनल एक्सपीरियंस शेयर किया जिसने उनकी दुनिया को हिला कर रख दिया. उन्होंने बताया कि गैस गीजर की वजह से उनकी पत्नी ऑक्सीजन में कमी हुई और वह नहाते हुए बेहोश हो गई. हालांकि, दिव्यांशु के समय पर पहुंचे जाने के कारण उन्होंने अपनी पत्नी को बचा लिया.

अब आपको बता दें कि आप इससे सावधानी कैसे बना सकते हैं. सबसे पहले तो हम यह जान ले कि गैस गीजर काम कैसे करता है. यह पानी को गर्म करने के लिए एलपीजी का इस्तेमाल करता है, जिसकी वजह से यह 2 तरह से काम आता है पहला, यह पानी को जल्द गर्म कर देता है और दूसरा गर्म पानी लगातार आता रहता है.

गीजर में 3 पाइप होते हैं पहला पाइप, गर्म पानी के लिए आउटलेट पाइप होता है और बाकी के दो पाइप पानी और गैस के लिए इनलेट होता है. जब हम गीजर चालू करते हैं तो गैस पाइप लाइन के जरिए से फ्लो होता है, जिसकी मदद से पानी गर्म हो जाता है. गीजर की बात करें तो वह वातावरण से ऑक्सीजन का इस्तेमाल पानी को गर्म करने और गैस को जलाने के लिए करता है.

अब अगर आपकी सेफ्टी की बात करें तो, गीजरओं को हमेशा हवादार जगहों पर इंस्टॉल करने की जरूरत होती है, क्योंकि बन जगह पर गीजर ऑक्सीजन का इस्तेमाल करता है जिससे आसपास की जगह का ऑक्सीजन लेवल कम हो जाता है और कार्बन मोनोऑक्साइड निकलने लगता है.

मनुष्य के लिए कार्बन डाइऑक्साइड प्वाइजनिंग हो जाती है और ब्रेन डैमेज का खतरा बढ़ जाता हैं. इसलिए एक्सपोर्ट्स की सलाह है कि गैस गीजर से बदलकर आप इलेक्ट्रिक गीजर इस्तेमाल करें.