जानिए होटल स्टार रेटिंग कैसे और किन नियमों से तय होता है...

होटलों को कुछ मापदंड के आधार पर रेटिंग तय की जाती है
 | 
होटलों की स्टार रेटिंग

समर वेकेशन से लेकर विंटर वेकेशंस तक जब भी हम परिवार और दोस्तों के साथ के ट्रिप प्लान करते हैं तो सबसे पहला ख्याल हमारी ज़हन में आता है कि हम कहां रुकेंगे. जैसा कि सभी को पता है ट्रिप प्लान करते ही हम अपने बजट और सुविधा अनुसार होटल को सर्च करने लगते हैं कि वह 2 स्टार होगा थ्री स्टार होगा या सेवन स्टार होगा. लेकिन क्या आपने कभी यह सोचा है कि इन होटलों को स्टार रेटिंग किन आधार पर दी जाती है. कौन सा होटल 3 स्टार है और कौन सा फाइव स्टार कौन और कैसे तय करता है.

आपको बता दें कि भारत में पर्यटन मंत्रालय के अंतर्गत आने वाली होटल और रेस्तरां प्रत्यायन समिति (HRACC) होटलों को कुछ मापदंडों के आधार पर रैंक तय करती है. हर देश में होटल को रेटिंग देने का नियम अलग-अलग होता है. यह भी होता है कि किसी देश का फाइव स्टार होटल किसी और देश में 3 स्टार होटल की श्रेणी में आए.

अगर भारत देश की बात की जाए तो भारत में होटल स्टार्स पार्किंग और उसके ओढ़ने वाली चादर की क्वालिटी पर निर्भर करती है. अन्य सुविधाएं जैसे कि शौचालय के बगल में फोन और बाथरूम में तीन हुक, होटल को उच्च रेटिंग दिलाने में मदद करती है. 4 स्टार और 5 स्टार होटलों में फुल एयर कंडीशनिंग होनी चाहिए. 4 सितारा होटल का बाथरूम साइज 3.3 स्क्वायर मीटर से कम नहीं होना चाहिए और पांच सितारा होटल में 4.1 स्क्वायर मीटर से कम नहीं होना चाहिए.

अब होटल के स्टार और उनका क्या मतलब है उस बारे में बात करें तो-

• एक सितारा होटल- एक सितारा होटल में काफ़ी मामूली सुविधाएं दी जाती हैं. इन होटल्स में एक बेड के साथ एक टेबल दिया जाता है. ग्राहकों को बाथरूम दूसरे कमरों के साथ शेयर करना पड़ता है और यहां ठहरने वालों को स्नैक बाहर से लेने पड़ते हैं. इन होटलों में रूम सर्विस बहुत कम देखने को मिलता है.

• 2 सितारा होटल- टू स्टार होटल का काम और नाम वन स्टार से थोड़ा ऊपर होता है. यहां आपको प्राइवेट बाथरूम मिलेगा, कमरे में टीवी, फोन और कपड़े का आलमीरा भी मौजूद रहेगा. 24 घंटे रिसेप्शन डेस्क की सुविधा भी मिलेगी.

• 3 सितारा होटल- तीन सितारा होटलों को पॉकेट फ्रेंडली होटल भी कहा गया है. यहां पर आपको किफायती दर पर वन और टू स्टार होटल से बेहतर सुविधाएं मिलेंगी. यहां आपके कमरे में स्पेस ज्यादा होगा. रूम सर्विस के साथ – साथ आपको स्नैक भी होटल की तरफ से दिया जाता है.

• 4 सितारा होटल- चार सितारा होटल में आपको वेलकम करने वाला डेकोर, बड़ी स्पेस वाले रूम, बड़े बेड्स, रूम सर्विस, बुफे के ऑप्शन, कॉन्फ्रेंस रूम, फिटनेस सेंटर, मिनीबार, ब्रेक फास्ट और वर्क स्टेशन समेत कई सुविधाएं देते हैं. ये सुविधाएं आपके स्टे के लिए काफी आरामदायक बनाती हैं.

• 5 सितारा होटल- पांच सितारा या फाइव स्टार होटल एक लग्जरी होटल होता है. यहां पर मिलने वाली तमाम तरह की सुविधाएं काफी लग्जरी होती हैं, इसलिए ये काफी महंगा होता है. लग्जरी स्पा, रेस्तरां, वेलकम गिफ्ट्स, बटलर सर्विस, बाथटब के साथ बाथरूम, ब्रेकफास्ट बुफे में कई वैराइटी, लग्जरी वाशरूम और दुनियाभर की डिशेज, ये कई सुविधाएं जो यहां आने वाले ग्राहकों को दी जाती हैं.

• 7 सितारा होटल- सात सितारा होटल को सबसे अधिक विलासी होटल माना जाता है. यहां पर मिलने वाली सुविधाएं फाइव स्टार होटलों से भी उच्च दर्जे की होती हैं. इटली के मिलान शहर में केवल एक आधिकारिक सात सितारा होटल है, जिसका नाम होटल सेवन स्टार्स गैलेरिया है.