Amazing our own Rewa: Tribal Development के कर्मचारी को Education Department ने किया सेवानिवृति,दे रहे पेंशन का लाभ

शिक्षा विभाग के अधिकारीयों सहित कोषालय रीवा की भूमिका संदिग्ध

 | 
Amazing our own MP: Tribal Development के कर्मचारी को Education Department ने किया सेवानिवृति,दे रहे पेंशन का लाभ

रीवा। जिले का शिक्षा विभाग (Education Department) हर दिन नये-नये प्रयोग करता रहता है। शिक्षा विभाग (Education Department) अब एक प्रयोग शाला (Laboratory) बन कर रह गई है। यह ऐसी प्रयोगशाला (Laboratory) है जहॉ बच्चे  (Children) नही वल्कि राजनेता और अधिकारी (Politicians and Officials) अपने मन मुताबिक प्रयोग (Experimenting) करते रहते है। अब एक नई खोज शिक्षा विभाग ने की है। यह प्रयोग दो विभागो ने मिल कर किया है,

EDपहला आदिवासी विकास विभाग (Tribal Development Department) और दूसरा शिक्षा विभाग (Education Department) । आदिवासी विकास विभाग Tribal Development Department)  में पदस्त रहे सेवानिवृति मोले प्रसाद दुवेदी (Mole Prasad Duvedi) को प्रतिनियुक्ति में दो वर्ष के लिये शिक्षा विभाग (Education Department)  में की गई।ED

यह पदस्थापना शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बालक तिउनी में लोक शिक्षण संचालक मध्यप्रदेश भोपाल (Director of Public Education Madhya Pradesh Bhopal) के पृष्ठांकन आदेश क्रमांक/शा.शि./ए/47/प्रति नियुक्ति/2002/164/भोपाल दिनांक 25/03/2003 एवं जिला शिक्षा अधिकारी रीवा के पृष्ठाकंन आदेश क्रमाक/क्रीड़ा/3/319 रीवा दिनांक 09/04/2003 के आदेश मोले प्रसाद दुवेदी (Mole Prasad Duvedi) व्यायाम शिक्षक शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय करकी जिला शहडोल की सेवाये स्कूली शिक्षा विभाग (Education Department) में प्रतिनियुक्ति पर की गई। 

 

आदिवासी विकास विभाग (Tribal Development Department) के कर्मचारी को शिक्षा विभाग (Education Department) ने किया सेवानिवृति ED
मोले प्रसाद दुवेदी मूल पदस्थापना (Original Posting) आदिवासी विकास विभाग  (Tribal Development Department) में थी, उन्हे दो वर्ष कि प्रतिनियुक्ति (Deputation for Two Years) पर शिक्षा विभाग (Education Department) में पदस्थ किया।

 

लेकिन आदिवासी विकास विभाग (Tribal Development Department)  ने अपने विभाग के कर्मचारी को वापस बुलना भूल गया (Back The Employee) और शिक्षा विभाग (Education Department) ने सेवा पूर्ण होने पर सेवानिवृति कर पेशन का भुगतान करने लगे। 

EDजिला शिक्षा अधिकारी (DEO) सेवानिवृति के दौर बीईओ (BEO) के पद पर थे पदस्थ 
विभागीय जानकारी के मुताबिक जिला शिक्षा अधिकारी (DEO) गंगा प्रसाद उपाध्याय बीईओ (BEO) के पद पर गंगेव ब्लाक में पदस्त थे। लेकिन जाचं प्रतिवेदन में इनके नाम अथव विभागीय लापरवाही का उल्लेख जांच टीम द्वारा कही भी उल्लेख नही किया गया। जबकि BEO के पद पर पदस्थ रहते गंगा प्रसाद उपाध्याय पूरे प्रकरण पर कार्यवाई कर सकते थे।   

सेवानिवृति के पहले ही पेंशन की फाइल कर ली थी तैयार  ED
आदिवासी विकास विभाग (Tribal Development Department) में पदस्त रहे सेवानिवृति मोले प्रसाद दुवेदी (Mole Prasad Duvedi) ने ऐसा खेल खेला कि दोनो विभाग अब जांच करते नजर आ रहे है। सेवानिवृति मोले प्रसाद दुवेदी (Mole Prasad Duvedi)  को प्रतिनियुक्ति में दो वर्ष के लिये शिक्षा विभाग (Education Department) में शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बालक तिउनी में की गई लेकिन ये वापस मूल विभाग में कभी नही गये। राजनीतिक और प्रशासनिक (Political and Administrative) पहुच वाले मोले प्रसाद दुवेदी ने अपने पदस्थापन के दौरान सभी अभिलेख तैयार करवा लिया। इस दौरन किसी भी अधिकारी ने इन्हे मूल विभाग में भेजने कि हिमाकत नही कर सके और सेवनिव्ृति के सभी औपचारिकताये पूरी कर पेशंन के पात्र हो गये और पेशन लेने लगे।