दिल्ली में घने कोहरे के साथ प्रदूषण ने बढ़ाई लोगों की टेंशन, 408 पर पहुंचा AQI, इन स्थानों पर जहरीली हुई हवा, लगाए गए कई प्रतिबंध

एनसीपीसीआर ने दिल्ली सरकार से स्कूलों को बंद करने का किया आग्रह
 | 
Continuous deterioration in air quality in Delhi-NCR

वायु प्रदूषण और घने कोहरे ने दिल्ली-एनसीआर में रहने वाले लोगों की मुसीबतें बढ़ा दी हैं। यहां रहने वाले लोग जहरीली हवा में सांस लेने को मजबूर हैं। वहीं कोहरे के चलते वाहन चालकों को सड़क पर गाड़ी चलाना मुश्किल हो गया है। दिल्ली और इसके आसपास के इलाके में गुरुवार सुबह घना कोहरा छाया रहा। दिल्ली में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) का स्तर गंभीर श्रेणी में पहुंच गया है। इसके साथ ही नोएडा की हवा भी जहरीली हो गई है। यहां पर भी एक्यूआई खराब श्रेणी में दर्ज किया गया।  

गंभीर श्रेणी में पहुंचा वायु गुणवत्ता सूचकांक
दिल्ली में गुरुवार की सुबह 8 बजे एक्यूआई (364) बहुत ही खराब श्रेणी में दर्ज किया गया। इससे एक घंटे पहले सुबह के सात बजे एक्यूआई (408) गंभीर श्रेणी में दर्ज किया गया। बता दें कि हवा की धीमी गति के साथ ही प्रतिकूल मौसम संबंधी स्थितियां और खेत में पराली जलाने वायु गुणवत्ता में गिरावट के लिए जिम्मेदार हैं। प्रदूषण के लिहाज से 401 से 500 के बीच एक्यूआई को गंभीर श्रेणी में माना जाता है।

नोएडा-गुरुग्राम की भी हालत खराब 
केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक, दिल्ली से सटे नोएडा में एक्यूआई 393 जो कि बहुत खराब श्रेणी में दर्ज किया गया। वहीं गुरुग्राम का एक्यूआई 318 के साथ ही गंभीर श्रेणी में दर्ज किया गया। गुरुवार को दिल्ली में शहादरा में एक्यूआई 843 दर्ज किया गया। उत्तरी दिल्ली के इलाके में वायु गुणवत्ता सबसे अधिक खराब है, यहां के लगभग सभी क्षेत्र में एक्यूआई 400 से ऊपर है। मध्य दिल्ली में भी मंदिर मार्ग जैसे कुछ इलाकों को छोड़कर ज्यादातर क्षेत्रों में एक्यूआई 300 से ऊपर है। मॉडल टाउन के धीरपुर में एक्यूआई 457 दर्ज हुआ है। हवा की गुणवत्ता इस कदर खराब होने से स्वस्थ लोग भी बीमार पड़ सकते हैं। हवा की बिगड़ती हालत को देखते हुए अगले आदेश तक सभी निर्माण कार्य और विध्वंस गतिविधियों पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

दिल्ली में बंद होंगे स्कूल
हवा की गुणवत्ता में सुधार होने तक राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने दिल्ली सरकार से स्कूलों को बंद करने का आग्रह किया है। दिल्ली के मुख्य सचिव को पत्र लिखकर एनसीपीसीआर अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो ने वायु गुणवत्ता बेहतर होने तक स्कूल बंद करने की मांग की है। उन्होंने ट्वीट किया है कि, दिल्ली में वायु प्रदूषण का खतरनाक स्तर में स्कूली बच्चों की सुरक्षा चिंता का विषय है, अभी तक इस पर दिल्ली की राज्य सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया है। बच्चे स्कूल आने जाने में और खेल के मैदानों में जहरीली हवा के प्रकोप में आ रहे हैं। ये लापरवाही गलत है।