साधुओं को रास्ता पूछना पड़ा भारी! गलतफहमी में जान बचाना पड़ा मुश्किल, स्थानीय लोगों ने किया बुरा हाल

महाराष्ट्र के सांगली जिले में मथुरा के 4 साधुओं की पिटाई का वीडियो वायरल
 | 
sadhu ki pitai

महाराष्ट्र के सांगली जिले में मथुरा से आए चार साधुओं की पिटाई का मामला सामने आया है। चार पहिया वाहन में सवार साधुओं ने स्थानीय लोगों से रास्ता पूछा, तो लोगों को ऐसी गलतफहमी हुई कि उनका बुरा हाल कर दिया। स्थानीय लोगों ने उन्हें बच्चा चोर समझ लिया। देखते ही देखते यह यह अफवाह तेजी से पूरे इलाके में फैल गई, जिसके बाद मौके पर भरी भीड़ जुट गई और साधुओं की बुरी तरह पिटाई कर दी। साधुओं का वहां से जान बचाकर निकलना मुश्किल हो गया। इस वारदात का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। इस मामले में पुलिस का कहना है कि साधुओं की ओर से शिकायत दर्ज नहीं कराई गई है। लेकिन पुलिस द्वारा सोशल मीडिया पर वायरल वीडियोज की जांच करके ऐक्शन लिया जा सकता है। बताया गया है कि यूपी के रहने वाले 4 साधु सांगली जिले के लवांगा गांव में पहुंचे थे और उन्हें पंधरपुर जाना था। 

बताया गया है कि सोमवार को एक मंदिर में रात्रि विश्राम के लिए साधू रुक गए थे। मंगलवार को जब वह आगे की यात्रा पर निकले तो राह चलते एक लड़के से रास्ता पूछ लिया था। इस दौरान कुछ स्थानीय लोगों को इस बात का संदेह हो गया कि ये लोग बच्चा चोर गैंग हैं। इस अफवाह पर भीड़ जुटने गली और साधुओं की कुछ लोगों ने पिटाई कारना शुरू कर दिया। इस बात की जानकारी जब पुलिस को हुई तो, पुलिस ने मौके पर पहुंचकर जांच की तो पता चला कि वे बच्चा चोर नहीं बल्कि मथुरा के पंचदशनाम जूना अखाड़ा के साधु थे। मामले में पुलिस का कहना है कि अब तक हमें कोई शिकायत नहीं मिली है। लेकिन पुलिस द्वारा  वायरल वीडियोज और तथ्यों की पड़ताल की जा रही है। हम इस केस में कार्रवाई जरूर करेंगे। बताया जा रहा है कि भाजपा समर्थन वाली एकनाथ शिंदे सरकार में इस घटना पर विपक्ष हमला कर सकता है। दरअसल उद्धव ठाकरे सरकार के समय में एक साधु की हत्या पर काफी बवाल मचा था और भाजपा ने इसे लेकर शिवसेना पर जमकर हमला बोला था। उस दौरान भाजपा ने कहा था कि साधु पर हमला होना हिंदुत्व पर हमला है  और शिवसेना ने अब हिंदुत्व से समझौता कर लिया है।