पोषण आहार घोटाला : कांग्रेस विधायक बोले- कोर्ट की निगरानी में हो जांच

 पैदल मार्च करते हुए पहुंचे राजभवन: राज्यपाल को ज्ञापन सौंपकर आग्रह
 | 
MP: Reached Raj Bhavan while marching on foot: urging by submitting memorandum to Governor

भोपाल। कथित पोषण आहार घोटाले के सदन में जांच की मांग के बाद कांग्रेस विधायक गुरुवार शाम राजभवन पहुंचे। राज्यपाल से मुलाकात कर आरोप लगाया कि करोड़ों का यह घोटाला उस विभाग में हुआ है, जिसके मुखिया सीएम शिवराज सिंह हैं। उन्होंने कथित घोटाले की जांच हाईकोर्ट की निगरानी में कराने का आग्रह राज्यपाल से किया। राज्यपाल को ज्ञापन भी सौंपा। नेता प्रतिपक्ष डॉ. गोविंद सिंह के नेतृत्व में पहुंचे विधायकों में पीसी शर्मा, एनपी प्रजापति, सज्जन सिंह वर्मा, जयवर्द्धन सिंह, पांचीलाल मेड़ा, ओंकार सिंह मरकाम प्रमुख रहे।

इससे पहले विधायक रोशनपुरा चौराहे से पैदल मार्च करते हुए हुए राजभवन पहुंचे। इस पर पुलिस ने उन्हें बीच में ही रोक लिया। विधायकों की पुलिस से हुज्जत भी हुई। आखिरकार एक प्रतिनिधिमंडल को राजभवन जाने की अनुमति मिली। नेता प्रतिपक्ष के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने ज्ञापन सौंपा। उन्होंने कैग रिपोर्ट का हवाला देते हुए कहा कि 2018 से 2021 तक 4.05 लाख मीट्रिक टन टेक होम राशन 1.35 करोड़ लाभार्थियों को 2393.21 करोड़ मूल्य का वितरण किया, किन्तु परिवहन में जिन ट्रकों का उपयोग किया गया वे ट्रक थे ही नहीं। ट्रकों के जो नंबर पाए गए वे बाइक, कार, टैंकर एवं ऑटो के थे।

167 युवाओं ने की आत्महत्या
प्रदेश में पिछले तीन साल में बेरोजगारी के चलते 167 युवाओं ने आत्महत्या की है। इसमें 25 साल से कम के युवा भी शामिल हैं। पिछले सात साल में दंगों के 129 केस दर्ज किए गए हैं। यह जानकारी विधानसभा में अपूर्ण प्रश्रों के लिखित उत्तर देते हुए गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने दी। इस संबंध में कांग्रेस विधायक जीतू पटवारी ने सवाल किया था। मंत्री ने बताया कि 2019 में 24 से कम उम्र के 21 युवाओं ने आत्महत्या की है। 2022 में 42 और 2021 में 36 लोगों ने आत्महत्या की है।