Bageshwar Sarakaar: बागेश्वर सरकार ने स्वीकारी चुनौती, बिना 30 लाख लिए देगें जबाव

 नागपुर की समिति नें दी है बागेश्वर सरकार को चुनौती
 | 
bageshwar

विंध्य भास्कर डेस्क। प्रदेश में प्रसिद्ध बागेश्वर धाम के कथावाचक पंडित धीरेन्द्र शास्त्री  इन दिनों चर्चा पर है।  दरअसल नागपुर की अंध श्रद्धा निर्मूलन समिति के संस्थापक  और नागपुर  की जादू टोना विरोधी नियम   जन जागृति प्रचार प्रसार समिति के सह अध्यक्ष श्याम मानव  ने उन्हें चुनौती दी है। इस चुनौती में उन्होंने उनके प्रश्नों को जबाव देने पर तीस  लाख रुपए इनाम रखा था।

इस मामले में अब पंडित धीरेन्द्र शास्त्री बागेश्वर सरकार ने समिति के लोगों की चुनौती स्वीकार करते हुए  रायपुर आने का चैलेंज दिया है। इतना नहीं ही उन्होंने कहा कि वह समिति के सदस्यों को जबाव देगें वह भी बिना किसी पैसे लिए । वहीं समिति के  अध्यक्ष प्रो श्याम मानव रायपुर आने से इंकार कर दिया है। 

बागेश्वर सरकार ने स्वीकारी चुनौती, बिना 30 लाख लिए देगें जबाव
नागपुर की समिति नें दी है बागेश्वर सरकार को चुनौती

बता दें कि प्रदेश के छत्तरपुर स्थित बागेश्वर धाम के प्रसिद्ध के कथावाचक पंडित धीरेन्द्र शास्त्री नागपुर में अपना दरबार लगाया था। यहां १३ जनवरी तक  कथा होनी थी। लेकिन इसके दो दिन पहले ही कथा  समाप्त हो गई है। इसे लेकर नागपुर के श्रद्धा निर्मूलन समिति के संस्थापक प्रो श्याम मानव ने पुलिस में शिकायत की थी। साथ ही उन्होंने बागेश्वर सरकार को चुनौती दी थी कि जिसमें उन्हें अपने अंतर ज्ञान सामने आने वाले समिति के 10 लोगों के नाम नंबर उम्र को और उनके पिता का नाम बताथा । इसके अलावा पास के कमरे में 10 चीजें रखते हुए  उन 10 चीजों को पहचानना था।

समिति ने इन सवालों के नाम ९० फीसदी जबाव देने पर 30 लाख रुपए इनाम देने की घोषणा की थी। इस पर श्याम मानव का कहना हे कि  उन्होंने यह चुनौती  नहीं स्वीकारी और नागपुर से पहले ही चली गए। इस मामले में अब बागेश्वर सरकार ने चुनौती स्वीकार करते हुए रायपुर 21 जनवरी तक होने वाली कथा में आने की चुनौती समति को दी है।