विंध्य क्षेत्र में स्थापित हुआ पहला 200 एमवीए क्षमता का पावर ट्रांसफार्मर, जानिए क्या होगी सुविधा

 | 
First 200 MVA capacity power transformer installed in Vindhya region
रीवा के ट्रांसमिशन नेटवर्क की विश्वसनीयता में भी होगी बढ़ोत्तरी

विद्युत व्यवस्था को और भी दुरुस्त और बेहतर बनाने के लिए मध्यप्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी ने विध्ंय क्षेत्र में लगभग 13 करोड़ रूपये की लागत का पहला 200 एमवीए क्षमता का पावर ट्रांसफार्मर स्थापित किया है। बता दें कि मध्यप्रदेश में दमोह के बाद रीवा ऐसा दूसरा जिला बन गया है जहां 220 केवीए वोल्टेज लेवल का सब स्टेशन बनाया गया है। मध्य प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी ने यहां पर विशेष डिजाइन से निर्मित इस ट्रांसफार्मर को स्थापित किया है। 220/132 के व्ही सबस्टेशन सिलपरा में प्रदेश के दूसरे 200 एमवीए क्षमता वाला पावर ट्रांसफारमर को स्थापित किया गया है। इसके स्थापित होने के बाद से जिले की विद्युत ट्रांसमिशन क्षमता में वृद्धि होगी। 

कम जगह में अधिक क्षमता का ट्रांसफार्मर
कंपनी के अधीक्षण अभियंता परीक्षण एवं संचार, सतना एसवी वजे, ने बताया कि रीवा क्षेत्र में बेहतर विद्युत ट्रांसमिशन के लिए सबस्टेशन में क्षमता बढ़ाने की जरूरत थी। जिसे देखते हुए कंपनी ने सिलपरा  विशेष डिजाइन से तैयार करवा कर 200 एमवीए क्षमता का यह ट्रांसफारमर स्थापित कराया है। अधिक क्षमता के साथ साथ यह ट्रांसफारमर प्रचलित 160 एमवीए क्षमता के पावर ट्रांसफारमर के सेटअप में भी स्थापित हो जाता है जिससे कम जगह में अधिक क्षमता के ट्रांसफारमर लगाया जा सकता है।                

रीवा जिले की ट्रांसमिशन क्षमता में बढ़ोत्तरी
बताया गया है कि सिलपरा में स्थापित ट्रांसफारमेशन क्षमता 220 केवी साइड में 160 एमवीए से बढ़कर 360 एमवीए की हो गई है, जबकि रीवा जिले की कुल स्थापित क्षमता अब बढ़कर 220 केवी साइड 680 एमवीए तथा 132 केवी साइड 690 हो गई है।मध्य प्रदेश पावर ट्रांसमिशन कंपनी रीवा जिले में आठ अति उच्च दाब सबस्टेशन के माध्यम से विद्युत ट्रांसमिशन करती है जिसमें से 220 केवी के 02 सबस्टेशन जिनमें सिरमौर और सिलपरा तथा 132 केवी के 06 सबस्टेशन रीवा, सगरा, मनगंवा, मऊगंज, अतरैला एवं कटरा सबस्टेशनों के माध्यम से जिले में विद्युत ट्रांसमिशन कराया जाता है।