रीवा गैंगरेप की जांच के लिए एसआईटी गठित, एसडीओपी नवीन दुबे करेंगे लीड, 7 सदस्यों को टीम में किया गया शामिल

शुक्रवार को 16 साल की एक किशोरी से हुई थी गैंगरेप की वारदात 
 | 
SDPO Naveen Dube

रीवा जिले के बहुचर्चित नईगढ़ी गैंगरेप के छह आरोपियां की गिरफ्तारी हो गई है। अब बारीकी से वारदात के साक्ष्य के संकलन की रिपोर्ट तैयार करने एसआईटी का गठन किया गया है। मंगलवार देर शाम पत्र जारी करते हुए एसपी नवनीत भसीन ने मऊगंज एसडीओपी नवीन दुबे को जांच अधिकारी बनाया है। सात सदस्यों वाली यह टीम एसडीओपी से कोआर्डिनेशन कर घटना के हर पहलू की जांच करेगी।

इन्हें किया गया टीम में किया शामिल
बताया गया है कि एसआईटी टीम में मऊगंज एसडीओपी नवीन दुबे, नईगढ़ी थाना प्रभारी उपनिरीक्षक मिथलेश यादव, साइबर सेल प्रभारी निरीक्षक बीरेन्द्र सिंह पटेल, नईगढ़ी थाने के उपनिरीक्षक शैलेन्द्र सिंह, नईगढ़ी थाने के कार्यवाहक उपनिरीक्षक उपेन्द्रनाथ तिवारी, प्रधान आरक्षक श्रीकांत द्विवेदी एवं आरक्षक आनंद अग्निहोत्री को टीम में शामिल किया गया है।

यह है पूरा मामला
बता दें कि शुक्रवार को 16 साल की एक किशोरी अपने दोस्त के साथ नईगढ़ी के अष्टभुजी माता मंदिर गई थी। दर्शन करने के बाद दोनों मंदिर के बगल में देवलहा जल प्रपात के जंगल में घूमने चले गए। इसी दौरान दो बाल अपचारी सहित 6 आरोपियों ने युवक को बंधक बनाकर युवती से गैंगरेप किया। शनिवार को मामले में पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए कोशिश शुरू कर दी।

सभी आरोपी हो चुके गिरफ्तार
बताया गया है कि रविवार की सुबह नईगढ़ी थाना प्रभारी मिथलेश सिंह यादव ने शिवम यादव, किशन बहेलिया, विद्यासागर बहेलिया निवासी लालगंज को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं रविवार की ही रात दो अन्य आरोपियों को मुंबई के थाणे से पकड़कर मंगलवार की शाम रीवा लाया गया है। जबकि वारदात के छठवें आरोपी को सोमवार की रात यूपी के प्रयागराज जिले के कोरांव से पकड़ा गया है।