Rail News : प्रभावित किसानों के परिजनों को नौकरी नहीं दी गई तो गांवों में रोंकेगे रेल

राष्ट्रपति और पीएम के नाम का ज्ञापन संभागायुक्त को सौंपा, किया धरना-प्रदर्शन
 | 
rail news

रीवा. सीधी-सिंगरौली, सतना-पन्ना रेल लाइन व सतना-रीवा लिंक तथा दोहरीकरण से प्रभावित किसानों ने आयुक्त रीवा कार्यालय के सामने धरना-प्रदर्शन किया। साथ ही राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री के नाम का ज्ञापन संभागायुक्त को सौंपा है। प्रदर्शन में किसानों ने एलान किया कि प्रभावित किसानों के परिजनों को नौकरी नहीं दी गई तो वे गांवों में रेल रोंकेगे। 


किसानों ने बताया कि पश्चिम मध्य रेलवे जबलपुर के अन्तर्गत निर्माणधीन ललितपुर सिंगरौली रीवा सीधी सिंगरौली नई रेल लाइन एवं सतना पन्ना रेल लाइन के लिए कृषि भूमि के अधिग्रहण से प्रभावित हैं। पश्चिम मध्य रेलवे के आदेश के अनुसार रेल लाईन से प्रभावित किसान एवं उनके आश्रित को रेलवे में नौकरी देने का निर्देश है, लेकिन लगातार कई वर्षों से उन्हें सिर्फ  आश्वासन मिल रहा रहा है। मांग रखी कि जिन किसानों की भूमि का अधिग्रहण किया गया है सभी को नौकरी दी जाय अन्यथा उनकी जमीन वापस की जानी चाहिए। कहा कि रेलवे कैम्प लगाकर उनकी समस्या का निराकरण करे।  

किसान इस बात से नाराज रहे कि कोई भी सांसद व विधायक उनकी समस्या को नहीं उठा रहा है। धरने में प्रमुख रुप से किसान सुब्रत, कामरेड लालमणि त्रिपाठी, कुंजबिहारी तिवारी, नृपेन्द्र सिंह, पार्षद नम्रता सिंह, मुनींद्र तिवारी, अखंड प्रताप सिंह, मनोज कुमार मिश्रा, पवन सिंह, हिमांशु सिंह, शंकर राज सिंह, मोहित सिंह, डीके सिंह, जगन्नाथ कुशवाहा, आशीष पाण्डेय, विकास पाण्डेय, कृष्ण कुमार सिंह, आशीष सिंह, पुष्पेन्द्र सिंह, मुन्ना सिंह, प्रिंस सिंह, ऋषि पाण्डेय सहित रीवा, सतना, पन्ना, छतरपुर, सीधी व  सिंगरौली के किसान उपस्थित थे। 

सांसद व विधायकों को भी भेजा ज्ञापन
रेल लाइन से प्रभावित किसानों ने संभागभर के सांसद व विधायकों को भी ज्ञापन भेजकर प्रभावितों को नौकरी दिलाने की मांग की है। इस दौरान किसान सुब्रतमणि ने बताया कि किसानों की समस्याओं को जनप्रतिनिधि नजरांदाज कर रहे हंै। उन्होंने बताया कि रीवा, सतना, पन्ना, छतरपुर, सीधी व सिंगरौली के विधायकों एवं सांसदों को भी ज्ञापन भेजकर नौकरी दिलाने की मांग की गई है।