Rewa News : दामाद को आत्महत्या के लिए विवश करने वाले वन विभाग के बड़े बाबू को परिवार सहित गिरफ्तार कर पुलिस ले गई खरगोन

मांग रहे थे एक करोड़ रुपये, दहेज प्रताडऩा का भी लगाया था केस
 | 
Family arrested for forcing son-in-law to commit suicide

रीवा. खरगोन पुलिस ने रीवा में दबिश देकर वनमंडल अधिकारी कार्यालय के बड़े बाबू को परिवार सहित उठा ले गई। खरगोन जिले के बड़वाह थाना में इन सब के विरुद्व 306 का अपराध दर्ज था है। शनिवार की दोपहर बड़े बाबू  गुरुप्रसाद के मैदानी स्थित घर में पहुंची खरगोन पुलिस ने गुरुप्रसाद उनकी पत्नी रमा तिवारी, बेटी प्रार्थना तिवारी एवं पुत्र प्रिंस उर्फ प्रशांत तिवारी को गिरफ्तार कर चोरहटा थाना को सूचना दी।  इसके बाद शनिवार शाम को ही रीवा की जिला अदालत में इन चारों आरोपियों को पेश किया गया।  जहां से परिवहन वारंट हासिल कर खरगोन पुलिस इन सभी आरोपियों को साथ लेकर रवाना हो गई। बड़वाह थाना में पदस्थ उपनिरीक्षक सुनील जामले के नेतृत्व में पुलिस रीवा आई हुई थी। यह मामला करीब साल भर पुराना है। बात तक की है, जब डिप्टी रेंजर प्रमोद द्विवेदी निवासी दुआरी के पुत्र अजय द्विवेदी ने नर्मदा नदी में कूदकर अपनी जान दे दी थी। 25 नवंबर 2021 को उसने आत्महत्या से पहले सुसाइड नोट और वीडियो भी बना कर छोड़ा था, जिसे पुलिस ने बरामद किया है। 
तलाक का केस वापस लेने के लिए मांग रहे थे एक करोड़ रुपये
बता दें मूलत: रीवा का रहने वाला मृतक अजय द्विवेदी इंदौर में रहकर स्टॉक मार्केट में काम करता था। आत्महत्या से पहले उसने जो वीडियो बनाया था उसमें,  उसने पत्नी और ससुराल वालों पर तलाक का केस वापस लेने के लिए दबाव बनाने का आरोप लगा रहा है।  उसने इस वीडियो के जरिए बताया कि पत्नी और ससुराल वाले एक करोड़ रुपए मांग रहे हैं। साथ ही मुझे और परिवार को प्रताडि़त कर रहे हैं। वहीं मृतक अजय के पिता प्रमोद द्विवेदी जो कि रीवा के सिरमौर में डिप्टी रेंजर हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि बेटे के ससुराल वालों ने अजय और हमारे विरुद्ध दहेज प्रताडऩा का केस दर्ज करा दिया है। और  रुपए के लिए प्रताडि़त कर रहे थे, जिसके चलते बेटे ने खुदकुशी की है।

40 फीट ऊंचे पुल से नर्मदा नदी में लगाई थी छलांग
Family arrested for forcing son-in-law to commit suicide

अजय द्विवेदी घटना के दिन 25  नवबंर 21 को दोस्त के साथ स्कूटी से ओंकारेश्वर जाने के लिए बोल कर गया था। इसी दौरान रास्ते में दोनों पुल के पास रुके। दोस्त कुछ समझ पाता, इससे पहले अजय ने नर्मदा नदी में 40 फीट ऊंचे पुल से छलांग लगा दी। दोस्त ने तुरंत घर पर और पुलिस को सूचना दी। तीन दिनों तक चली सर्चिंग के बाद मुरल्ला गांव के पास नदी में उतराता हुआ उसका मिला।

स्कूटी की डिग्गी में मिला सुसाइड नोट
स्कूटी की डिग्गी में पुलिस को सुसाइड नोट मिला था जिसमें लिखा था कि पत्नी और ससुराल वाले उसे और उसके परिवार को प्रताडि़त कर रहे हैं इसलिए वह जान देने जा रहा है। लिखा था कि उसकी मौत के जिम्मेदार गुरु प्रसाद तिवारी, प्रार्थना तिवारी, प्रिंस तिवारी और रमा तिवारी हैं। ये लोग 3 साल से मेरे ऊपर और परिवार पर केस करके एक करोड़ की डिमांड कर रहे थे। इससे परेशान होकर आत्महत्या कर रहा हूं। साथ ही लिखा था कि मैं कोर्ट से प्रार्थना करता हूं कि ऐसे लोगों को सजा जरूर दें।