Shraddha Murder Case: श्रद्धा से भी ज्यादा खौफनाक कत्ल, देहरादून में पत्नी की हत्या कर शव के कर दिए थे 72 टुकड़े

देहरादून का चर्चित अनुपमा गुलाटी हत्याकांड 
 | 
 Anupama Gulati murder case


इन दिनों दिल्ली में हुए श्रद्धा मर्डर केस की चर्चा पूरे देश में हो रही है। आरोपी युवक ने हत्या के बाद जिस तरह से आरी से श्रद्धा के शरीर के 35 टुकड़े करके उसे डंप किया, वह काफी खौफनाक है, सोच कर ही रूह कांप जाती है। यह बहुत ही विभत्स घटना है, लेकिन इससे पहले भी इसी तरह का एक मामला सामने आ चुका है, जिसमें इस घटना से भी ज्यादा कू्ररता की गई थी।  देहरादून के चर्चित अनुपमा गुलाटी हत्याकांड जो कि इससे भी ज्यादा विभत्स और खौफनाक था। 17 अक्टूबर 2010 को देहरादून की शांत दून घाटी में हुई यह वारदता श्रद्धा मामले से भी कहीं ज्यादा खौफनाक थी। इस घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया था।


वर्ष 2011 में पति ने की थी पत्नी की हत्या
देहरादून के चर्चित अनुपमा गुलाटी हत्याकांड में अनुपमा के पति राजेश ने उसकी बड़ी बेरहमी से हत्या कर उसके शव के 72 टुकड़े कर दिए थे। इसके बाद वह इन शव टुकड़ों को एक-एक कर ठिकाने लगाया था। अनुपमा के घर वालों को जब काफी दिनों तक उसकी खबर नहीं मिली तो अनुपमा का भाई सूरज 12 दिसंबर 2010 को दिल्ली से देहरादून आया। यहां पहुंचने के बाद उसे  बहन की हत्या का पता चला। इसके बाद पुलिस को मामले की सूचना दी गई। पुलिस ने आरोपी को हिरासत में लिया।  2011 में इस मामले में देहरादून पुलिस ने कोर्ट में चार्जशीट दाखिल की थी।

अनुपमा ने 1999 में की थी लव मैरिज
अनुपमा दिल्ली की रहने वाली थी और 1999 में उसने राजेश गुलाटी से लव मैरिज की थी। राजेश एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर था।  शादी कुछ समय बाद वर्ष 2000 में दोनों अमेरिका चले गए थे। 6 साल बाद वह दोनों भारत लौटे और देहरादून के प्रकाश नगर में अपने 2 बच्चों के साथ सेटल हो गए। इंडिया आने के बाद दोनों के बीच अक्सर झगड़े होने लगे थे। हत्या वाले दिन भी दोनों के बीच किसी बात पर झगड़ा हुआ था। इस दौरान धक्का-मुक्की में अनुपमा का सिर बेड के कोने से टकरा गया। जिसके बाद राजेश ने अनुपमा के मुंह पर तकिया रखकर उसकी हत्या कर दी

हॉलीवुड की फिल्म से बनाया प्लान
पुलिस पूछताछ में पता चला था कि राजेश ने एक हॉलीवुड फिल्म देखकर अनुपमा की हत्या का प्लान बनाया। राजेश ने पहले अनुपमा की हत्या की, इसके बाद गुनाह को छिपाने के लिए एक डीप फ्रीजर  खरीदा और अनुपमा की लाश को उसी में रख दिया। शव जब बर्फ की तरह जम गया तो स्टोन कटर मशीन से उसने लाश के 72 टुकड़े किए और फिर धीरे-धीरे मसूरी के जंगलों में फेंकने लगा। इस बीच अनुपमा के भाई को इस घटना का पता चल गया। उसकी शिकायत पर पुलिस ने राजेश को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया। न्यायालय में सुनवाई के बाद उसे आजीवन कारावास सहित 15 लाख रुपये का आर्थिक जुर्माना भी लगाया था।