असम के सीएम को शाहरुख़ ख़ान ने किया रात को 2 बजे कॉल, सीएम ने ट्वीट कर दी जानकारी

शाहरुख खान की फिल्म पठान कुछ ही दिनों में सिनेमाघरों में आने वाली है.इसी बीच इस फिल्म पर काफी कॉन्ट्रोवर्सी भी चल रही है.इतने कॉन्ट्रोवर्सी के बाद भी पठान फिल्म के लिए सभी लोग बहुत इंतजार कर रहे हैं
 | 
a

शाहरुख खान की फिल्म पठान कुछ ही दिनों में सिनेमाघरों में आने वाली है.इसी बीच इस फिल्म पर काफी कॉन्ट्रोवर्सी भी चल रही है.इतने कॉन्ट्रोवर्सी के बाद भी पठान फिल्म के लिए सभी लोग बहुत इंतजार कर रहे हैं बता दें कि मुंबई के अधिकतर सिनेमाघर पठान मूवी के फर्स्ट शो के लिए बुक भी हो चुके हैं.इसी बीच एक बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है कि शाहरुख खान द किंग ऑफ बॉलीवुड ने रात के 2:00 बजे असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा सरमा से बातचीत की.आइए जानते हैं कि रात के 2:00 बजे दोनों के बीच आखिर ऐसी क्या बात हुई.

सबसे पहले हम इस बात पर चर्चा करेंगे कि आखिर क्यों शाहरुख खान ने असम के मुख्यमंत्री को कॉल किया.दरअसल असम के नरेंगी क्षेत्र में शुक्रवार के दिन बजरंग दल के कुछ लोग आकर थिएटर के बाहर फिल्म को लेकर नारेबाजी करने लगे थे.साथ ही फिल्म के विरोध में प्रदर्शन भी करने लगे थे और पठान मूवी के पोस्टर्स भी जला रहे थे.इस विवाद के बाद अगले दिन शनिवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस रखी गई थी, जिसमें अमर असम के मुख्यमंत्री ने बजरंग दल से पठान पर किए गए विरोध के बारे में पूछा. इस पर मुख्यमंत्री ने कहा था कि  कौन शाहरुख खान वह किसी शाहरुख खान के बारे में नहीं जानते और ना ही उन्हें किसी पठान मूवी के बारे में पता है.


इसके बाद मुख्यमंत्री कहते हैं. क्यों नहीं किसी शाहरुख खान का फोन नहीं आया है क्योंकि जब भी किसी तरह की परेशानी आगे तो बॉलीवुड के कई लोगों ने उनके पास कॉल किया है, लेकिन अभी तक उनके पास शाहरुख खान का फोन नहीं आया. इसलिए इस मामले को अभी गंभीरता से नहीं देखेंगे और ना ही इस पर कुछ प्रतिक्रिया करना चाहेंगे.साथी वे कहते हैं कि यदि अभी कोई कानून को हाथ में लेने की कोशिश करेगा या उसके खिलाफ जाने की कोशिश करेगा तो उसके खिलाफ जरूर सख्त एक्शन लिया जाएगा.

इस मामले के बाद बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता शाहरुख खान ने खुद असम के मुख्यमंत्री को फोन किया साथ ही इस बवाल के बारे में तथा वहा फिल्म की स्क्रीनिंग में दिक्कत की चिंता जताई.इसके बाद उन्होंने शाहरुख खान को आश्वासन दिया. साथ ही उन्होंने ट्वीट करके कहा कि कानून और व्यवस्था को बनाए रखना राज्य सरकार का कार्य नहीं बल्कि कर्तव्य भी है। इस तरह वह कहते हैं कि हम पूछताछ करेंगे तथा सुनिश्चित करेंगे कि इस तरह की घटना दोबारा न हो.