REWA: आजाद अध्यापक संघ ने शुरू किया अनिश्चितकालीन धरना

वादा पूरा न होने से नाराज, धरने पर बैठे
 | 
aajad

रीवा. आजाद अध्यापक शिक्षक संघ ने अपनी छह सूत्रीय मांगों को लेकर कलेक्ट्रेट कार्यालय के समक्ष अनिश्चितकालीन धरना शुरू कर दिया है। संभागीय अध्यक्ष रमेश प्रताप सिंह ने बताया, जनवरी 2018 में प्रदेश के मुख्यमंत्री ने अपने निवास पर हजारों अध्यापकों को बुलाकर घोषणा की थी कि अब प्रदेश में शिक्षकों का एक कैडर होगा लेकिन वादा पूरा नहीं किया गया। सिंह ने बताया कि मुख्यमंत्री ने कहा था कि सभी शिक्षा कर्मी, संविदा, गुरूजी अध्यापक अब शिक्षक होगें और शिक्षा विभाग के कर्मचारी होगें। उनको समस्त सुविधाओं का लाभ भी दिया जायेगा। गुरूजी की वरिष्ठता भी मान्य नियुक्ति दिनांक से होगी। 

मुख्यमंत्री की घोषणा उपरांत अधिकारियों द्वारा नवीन कैडर राज्य शिक्षा सेवा बनाकर अध्यापक संवर्ग की नियुक्ति शिक्षक संवर्ग में करने के आदेश जारी किए गए जो अध्यापक के साथ धोखा है। नए कैडर में अध्यापक शिक्षक संवर्ग को पेशन एवं ग्रेच्युटी से वंचित रखा गया है, साथ ही नवीन शिक्षक संवर्ग को क्रमोन्नति, पदोन्नति का लाभ अभी तक नहीं दिया गया जबकि 12 वर्ष की सेवा उपरांत क्रमोन्नति का लाभ दिया जाना चाहिए। गुरूजियों की वरिष्ठता के सम्बन्ध मे कोई विचार नहीं किया गया।

प्रान्तीय उपाध्यक्ष राजेश सिंह, संगठन मंत्री लोली तिवारी, सचिव रजनीश चतुर्वेदी, संभागीय संयोजक दीपू तिवारी, जिलाध्यक्ष चक्रपाणि सिंह, मनीष चंदानम, ज्ञानेन्द्र सिंह, स्वतंत्र प्रकाश चतुर्वेदी, रजनीश तिवारी, बालेन्द्र शेखर द्विवेदी, सहित बड़ी संख्या में अध्यापक शिक्षक धरने पर बैठे रहे।