Vastu Tips: इन पांच चीजों को किसी दूसरे के साथ कभी भी ना करे शेयर, घर में बढ़ता है कलह और आप हो सकते है बर्बाद

Vastu Tips: इन पांच चीजों को किसी दूसरे के साथ कभी भी ना करे शेयर, घर में बढ़ता है कलह और आप हो सकते है बर्बाद
 | 
vastu tips

किसी के साथ हमारी चीजों को बांटना अच्छा माना जाता हैं. किसी भी चीज़ का उपयोग अकेले करने से बेहतर हैं. उस चीज़ को किसी के साथ बांटा जाए. उससे सामने वाले को भी ख़ुशी मिलती हैं. लेकिन वास्तु शास्त्र में पांच ऐसी चीज़े बताई गई हैं. जिसे बांटना हमारे लिए अशुभ माना जाता हैं.


घड़ी उधार मांगना या देना

अगर आप किसी की घड़ी पहनने के लिए मांगते हैं. या फिर अपनी घड़ी किसी दुसरे को पहनने के लिए देते हैं. तो वास्तु शास्त्र के अनुसार यह अशुभ माना जाता हैं. ऐसा माना जाता है की किसी की घड़ी लेने से और देने से उसके खराब भाग्य या समय हमारे साथ जुड़ जाता जाते हैं. इस वजह से हमे जीवन में कई सारी समस्या का सामना करना पड़ सकता हैं.


किसी की अंगूठी पहनने के लिए लेना

हमे किसी भी दोस्त या रिश्तेदार की अंगूठी पहनने के लिए नही लेनी चाहिए. कोई भी रत्न धातु या अंगूठी किसी न किसी ग्रह से जुड़े हुए होते हैं. अगर आप जाने बीना ही किसी भी ग्रह का रत्न या अंगूठी पहन लेते हैं. तो इसका उल्टा असर आपके जीवन पर पड़ेगा. और आपको परेशानी का सामना करना पड़ेगा.


दुसरो के जूते चप्पल भूलकर भी न पहने

किसी दूसरों के जूते चप्पल हमारे पैरो में कभी भी भूलकर भी नही पहनने चाहिए. वास्तु शास्त्र के अनुसार यह हमारे लिए अशुभ माना जाता हैं. ऐसा माना जाता है की शनिदेवता का वास हमारे पैरो में होता हैं. अगर ऐसे में आप दूसरों के जूते चप्पल मांगकर पहनते हैं. तो शनिदेवता नाराज हो जाते हैं. इस कारण आपके जीवन में बाधाएं उत्पन्न होना शुरू हो जाती हैं.


दूसरों के कपड़े मांगकर न पहने

किसी दूसरों के कपडे पहनना भी हमारे लिए अशुभ माना जाता हैं. दूसरों के कपड़े पहनने से आपको किसी भी प्रकार का इंफेक्शन हो सकता हैं. इसके अलावा आपको स्वास्थ्य से जुडी कोई भी समस्या उत्पन्न हो सकती हैं. 

किसी दूसरों की कलम उपयोग में न ले

ऐसा माना जाता है की कलम के साथ कलम उपयोग करने वाली की किस्मत जुडी हुई होती हैं. ऐसे में अगर आप किसी दूसरों की कलम उपयोग में लेते है. तो उनकी खराब किस्मत हमारे साथ जुड़ जाती हैं. इसलिए किसी की कलम लेने से भी बचना चाहिए.

(Disclaimer: यहां दी गई जानकारी सामान्य मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. Vindhya Bhaskar इसकी पुष्टि नहीं करता है.)