What is Project Cheetah Read all Detail in Hindi : क्या है प्रोजेक्ट चीता ?

What is Project Cheetah Read all Detail in Hindi : क्या है प्रोजेक्ट चीता ?
 | 
cheetah

भारत में 70 साल पहले विलुप्त घोषित बिग कैट की प्रजाति चीते को अफ्रीका से भारत में फिर से बसाए जाने की तैयारियां पूरी हो चुकीं हैं। 17 सितंबर 2022 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मध्यप्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में 8 चीतों को छोड़ेंगे। इन 8 चीतों में 3 नर और 5 मादा चीते शामिल हैं।

ये चीते पहले मॉडिफाइड विमान से जयपुर लाए जाएंगे। उसके बाद उन्हें हेलिकॉप्टर से कूनो नेशनल पार्क पहुंचाया जाएगा। जहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मध्यप्रदेश की मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और केंद्रीय पर्यावरण मंत्री भूपेंद्र यादव इन्हें खुले जंगल में छोड़ेंगे।नामीबिया से आ रहे इन चीतों को लेने हुशिया कोटाको इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर विशेष विमान पहुंच चुका है।

यह एक बोईंग 747 विमान है, जो लगातार 16 घंटे यात्रा कर सकता है, यह नामीबिया से हिंदुस्तान बिना रुके या बिना दोबारा तेल भरे अपनी यात्रा पूरी करेगा। विमान की नाक पर चीते की पेंटिंग बनाई गई है जिस पार्क में इन चीतों को रखा जाएगा, वह 748 वर्ग किलोमीटर में फैला है। यह 6,800 वर्ग किमी क्षेत्र में फैले खुले वन क्षेत्र का हिस्सा है। 


क्या है प्रोजेक्ट चीता? 


प्रोजेक्ट चीता एक राष्ट्रीय परियोजना है इसमें राष्ट्रीय बाघ संरक्षण प्राधिकरण (Tiger Conservation Authority) और मध्य प्रदेश सरकार शामिल है। इस परियोजना के तहत चीतों को उनके मूल स्थान दक्षिण अफ्रीका के नामीबिया शहर से हवाई रास्ते के जरिए भारत लाना और मध्य प्रदेश के कूनो राष्ट्रीय पार्क मे बसाया जाना है। 

इस परियोजना के तहत अगले 5 सालों में भारत में 50 जीते लाने की योजना है। इसके बाद भारत एकमात्र ऐसा देश बन जाएगा जहां बिग कैट (Big Cat) प्रजाति की पांच सदस्य शेर चीता बाघ तेंदुआ और हिम तेंदुआ मौजूद होंगे। भारत में 1947 में आखरी बार चीतों को देखा गया था, इसके बाद सरकार ने सन 1952 में इसे विलुप्त घोषित कर दिया था।